Skip to main content

रुद्राक्ष



रुद्राक्ष  :

मारे प्राचीन इतिहास से ही लोगों के बीच रुद्राक्ष एक आकर्षण का विषय बना हुआ है व इसकी असीम शक्तियों की चर्चा भी होती आ रही . आज के आधुनिक परिवेश में भी रुद्राक्ष के प्रति लोगों का झुकाव बना हुआ है. लोगों को इसकी चमत्कारी शक्तियों के बारे में जिज्ञासा बनी ही रहती है. तो आइये इस संदर्भ में जानते हैं कुछ अत्यंत महत्वपूर्ण बातें रुद्राक्ष `के बारे में-




'रुद्राक्ष'- अर्थात भगवान शिव की सार्वधिक प्रिय वस्तु जिसकी उत्पत्ति पौराणिक मान्यताओं के अनुसार साक्षात भगवान शिव के नेत्रों से हुई है . असल में रुद्राक्ष  एक फल का बीज है परन्तु इसमें विद्यमान अनेकों गुणों के कारण ये आध्यात्मिक व भौतिक विज्ञान एवं चिकित्सा जगत में बेहद पवित्र , पूज्यनीय व लाभकारी रुप में स्वीकार किया गया है.

रुद्राक्ष  धारण करने वाला व्यक्ति अनेकों प्रकार की व्याधियों व आपदाओं से सुरक्षित रहता है . साथ ही साथ इसके दानों से बनी माला जप के लिये सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है .प्राचीन काल के साथ-साथ आज के आधुनिक चिकित्सा विज्ञान ने भी रुद्राक्ष के दानों में विद्यमान अदभुत चुम्बकीय व विद्युत शक्ति को स्वीकारा है जो इसको धारण करने वाले को अनेक प्रकार से प्रभावित करता है .

रुद्राक्ष  के चमत्कारी प्रभावों के कारण लोग इसके दानों को शिवलिंग की भाँति ही पूजते हैं और कहा जाता है कि इसको धारण कर प्रभावी मंत्र 'ऊँ नम: शिवाय' का जप करने से व्यक्ति ज्वर उत्तेजना , रक्तचाप , बुरे स्वप्न, अनिद्रा, चर्मरोग आदि परेशानियों से निजात पा जाता है. वनस्पति विज्ञान ( Botany ) के अन्तर्गत रुद्राक्ष  के पेड़ को ELAECARPUS GANITRUS ROXB कहते हैं और अंग्रेजी भाषा में  UTRASUM BEAD TREE कहते हैं .

रुद्राक्ष  की कई जातियाँ होती हैं जैसे एक मुखी , दो मुखी आदि. व्यक्ति विशेष को रुद्राक्ष  की विभिन्न जातियों के बारे में जानने के बाद अपने भीतर की कमियों को दूर करने व परेशानियों से मुक्ति पाने के लिये इसको धारण करना चाहिये .

मुख्यत: रुद्राक्ष के दानों को गले या बाँह में धारण किया जाता है. पर आज के आधुनिक युग में इसको फैशन स्टेट्मेंट के तौर पर लोग ब्रेसलेट के रुप में भी धारण कर लेते हैं . ज्यादातर युवाओं को रुद्राक्ष  एक आकर्षक एक्सेसरी के तौर पर लुभाता है जो उन्हें बेहतरीन लुक के साथ साथ उनके लिये अनेक लाभकारी परिणाम भी सामने लाने में मददगार साबित होता है. तभी अक्सर युवा वर्ग इसके दानों को गले में लॉकेट व ब्रेसलेट की तरह पहनना पसंद करते हैं परंतु ऐसी स्थिति में  यदि आप रुद्राक्ष को धारण करते हैं तो पवित्रता का ध्यान रखते हुए प्रतिदिन प्रात: उठते ही सबसे पहले इसे अपने माथे से लगायें व ऊँ नम: शिवाय का जाप करें , आपको नि:संदेह अनेकों सुखों की प्राप्ति होगी .

आइये अब जानते हैं कि कौन सा मुखी रुद्राक्ष धारण करने से आप किस प्रकार से लाभान्वित हो सकते हैं -
एकमुखी :  यह भगवान शिव क स्वरुप है. इसे धारण करने वाले व्यक्ति में एकाग्रता बढ़ती है व भक्ति एवं मुक्ति दोनों की ही प्राप्ति होती है.

दोमुखी:    अर्धनारेश्वर अर्थात शिव व शक्ति का स्वरुप है . इसे धारण करने से पति-पत्नी में एकात्मक भाव उत्पन्न होता है व धन - धान्य से युक्त्त होकर  
व्यक्ति पवित्र गृ्हस्थ जीवन व्यतीत करता है.

तीनमुखी:  अग्नि का स्वरुप है. धारणकर्ता अग्नि के समान तेजस्वी हो जाता है. आत्मविश्वास की कमी वाले लोगों के लिये बेहद लाभकारी है.

चारमुखी :  भगवान ब्रह्मा का स्वरुप है. धारणकर्ता अनेकों कलात्मक व रचनात्मक गुणों को व बुद्धिमत्ता को प्राप्त करता है .

पंचमुखी:   पंचब्रह्म स्वरुप है. धारणकर्ता को अच्छा स्वास्थ व शांति प्रदान करता है .साथ ही साथ धारणकर्ता अनेक पापों से मुक्त हो जाता है. आत्मविश्वास बढ़ोत्तरी में लाभदायक.

छ:मुखी :   भगवान कार्तिकेय का स्वरुप है. बुद्धिमत्ता व विद्याप्राप्ति के लिये श्रेष्ठ है.

सातमुखी:  यह देवी महालक्ष्मी का स्वरुप है. धारणकर्ता को धन, संपत्ति ,यश , कीर्ति, ऎश्वर्य , व्यापार व नौकरी में सफलता प्रदान करता है.

आठमुखी:  भगवान गणेश का स्वरुप है. विघ्नहर्ता मंगलकर्ता है. रिद्धि-सिद्धि प्रदान करने के साथ- साथ इसे धारण करने से विरोधियों की समाप्ति हो जाती है.

नौमुखी :   यह देवी दुर्गा माँ का स्वरुप है. यह धारणकर्ता को वीरता, शक्ति, साहस, कर्मठता , अभय व सफलता प्रदान करता है.

दसमुखी:   भगवान विष्णु का स्वरुप है . इसको धारण करने से सर्वगृ्ह शांत हो जाते हैं . धारणकर्ता को भूत, पिशाच सर्प आदि का भय नहीं रहता है. साथ ही साथ शारीरिक सुरक्षा भी प्रदान करता है.

ग्यारहमुखी: भगवान हनुमान का स्वरुप है. भाग्य वृ्द्धि , धनवृ्द्धि , शक्ति, अभय व सफलता प्राप्ति के लिये श्रेष्ठ है. धारणकर्ता की दुर्घटनाओं से रक्षा होती है.

बारहमुखी:   भगवान सूर्य का स्वरुप है. धारणकर्ता तेजस्वी व आत्मविश्वास से परिपूर्ण हो जाता है. यह धारणकर्ता की चिंताओं व परेशानियों का अंत करता है.

तेरहमुखी :   भगवान इंद्र का स्वरुप है. ये धारणकर्ता की संपूर्ण कामनाओं को पूर्ण करता है व जीवन में सुख - शांति प्रदान करता है.

चौदहमुखी: भगवान हनुमान का स्वरुप है . अति दुर्लभ व प्रभावशाली . इसे देवमणि भी कहा जाता है. ये हानि , दुर्घटना, रोग व चिंता से मुक्त रखकर धारणकर्ता की  सुरक्षा करता है. व्यक्ति की छठी इंद्री भी जाग्रत करने की इसमें शक्ति होती है. धारणकर्ता को धन-संपदा , सुख व शांति की प्राप्ति होती है.

पंद्रहमुखी:    भगवान पशुपति का स्वरुप है. धारणकर्ता को धन प्रदान करता हैव चर्मरोगों में अत्यंत लाभदायक होता है.

सोलहमुखी:  यह धारणकर्ता को सफलता प्रदान करता है व सर्दी और गर्मी के कारण होने वाले रोगों से रक्षा करता है. . यदि घर पर इसको रखा जाए तो चोरी, ड्कैती व आग लगने का खतरा नहीं रहता है.


This appeared in one of the leading hindi magazines ........




आप सभी को नव वर्ष की ढेर सारी बधाईयाँ व शुभकामायें...... आप सभी के लिये नव वर्ष मंगलमय हो.


                             - स्वप्निल शुक्ल


copyright©2013Swapnil Shukla.All rights reserved
No part of this publication may be reproduced , stored in a  retrieval system or transmitted , in any form or by any means, electronic, mechanical, photocopying, recording or otherwise, without the prior permission of the copyright owner. 

Copyright infringement is never intended, if I published some of your work, and you feel I didn't credited properly, or you want me to remove it, please let me know and I'll do it immediately.

Comments

  1. मिनाक्षी1 January 2013 at 03:19

    सर्वश्रेष्ठ जानकारी... बहुत - बहुत बधाई स्वप्निल जी.
    -मिनाक्षी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अनमोल टिप्पणी के लिये आपको हृदय से धन्यवाद !!

      Delete
  2. उमा कौशिक1 January 2013 at 03:20

    बेहद विस्तृ्त , उपयोगी व दुर्लभ जानकारी ..... रुद्राक्ष के बारे में इतना विधिवत तरीके से बताने के लिये आपको धन्यवाद .
    - उमा कौशिक , उज्जैन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अनमोल टिप्पणी के लिये आपको हृदय से धन्यवाद !!

      Delete
  3. विनय माथुर1 January 2013 at 03:24

    अत्यंत उपयोगी व महत्तवपूर्ण बातें व जानकारी . स्वप्निल जी आपको कोटि - कोटि प्रणाम क्योंकि आपको पता नहीं कि कितने समय से मैं रुद्राक्ष के बारे में ऐसी ही विस्तृ्त व सटीक जानकारी की खोज में था......बहुत - बहुत आभार .
    - विनय माथुर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अनमोल टिप्पणी के लिये आपको हृदय से धन्यवाद !!

      Delete
  4. अरुंधति श्रीवास्तव1 January 2013 at 03:25

    बढ़िया लेख .
    अरुंधति

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अनमोल टिप्पणी के लिये आपको हृदय से धन्यवाद !!

      Delete
  5. स्वाति सक्सेना1 January 2013 at 03:26

    उत्कृष्ट प्रस्तुति . बधाई व आभार
    - स्वाति सक्सेना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अनमोल टिप्पणी के लिये आपको हृदय से धन्यवाद !!

      Delete
  6. धीरज प्रताप सिंह1 January 2013 at 03:28

    बहुत उम्दा उत्कृष्ट प्रस्तुति..........बहुत सुंदर तरीके से लिखा गया है इतने जटिल विषय के बारे में. बधाई स्वप्निल जी!
    धीरज प्रताप सिंह

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अनमोल टिप्पणी के लिये आपको हृदय से धन्यवाद !!

      Delete
  7. wow...great article with great presentation ..congra8

    ReplyDelete
  8. उपयोगी जानकारी
    यह वर्ष सभी के लिए मंगलमय हो इसी कामना के साथ..आपको सहपरिवार नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ...!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अनमोल टिप्पणी के लिये आपको हृदय से धन्यवाद !!

      Delete
  9. बहुत ही उपयोगी और विस्तृत जानकारी । स्वप्निल जी ये रुद्राक्ष के गहने ाप बेचती बी हैं क्या । यदि हां तो ये कहां से प्राप्त करें ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आशा जी ! आपकी अनमोल टिप्पणी के लिये आपको हृदय से धन्यवाद !! जी हाँ, मैं रुद्राक्ष की डिजायनर ज्वेलरी को भी अपनी हर exhibitions में शामिल करती हूँ .... exhibitions मुख्यत: साल में 2 बार लगाती हूँ , दिल्ली, जयपुर व पुणे में ....... जैसे ही next exhibitions की योजना बनेगी वैसे ही मैं आपको invitation card जरुर भेजूंगी ......वहाँ से आप अपनी जरुरत के हिसाब से रुद्राक्ष के आभूषणों का चयन कर सकती हैं..... आभार !

      Delete
  10. नववर्ष की अनेक शुभ कामनाएं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अनमोल टिप्पणी के लिये आपको हृदय से धन्यवाद !!

      Delete
  11. 'कविता रावत' ji wrote :
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति ...
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!



    ReplyDelete
  12. pehli bar aap ka blog dekha vh padha - achalaga

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अनमोल टिप्पणी के लिये आपको हृदय से धन्यवाद !!

      Delete
  13. धन्यवाद इस तमाम जानकारी के लिए।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अनमोल टिप्पणी के लिये आपको हृदय से धन्यवाद !!

      Delete
  14. great info . thanks for sharing

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

माणिक्य से लाभ , जीवन में उठाएं आप .

This appeared in one of the leading Hindi Magazines .



माणिक्य से लाभ , जीवन में उठाएं आप .

आज के परिवेश में आमतौर पर हर व्यक्ति रत्नों के चमत्कारी प्रभावों का लाभ उठा कर अपने जीवन को समृ्द्धिशाली व खुशहाल बनाना चाहता है. रत्न भाग्योन्नति में शीघ्रातिशीघ्र अपना असर दिखाते हैं. रत्न समृ्द्धि व ऎश्वर्य के भी प्रतीक होते हैं. अत: इनकी चमक हर व्यक्ति को अपने मोहपाश में बाँध अपनी ओर आकर्षित करती है. ज्योतिष शास्त्र के साथ -साथ चिकित्सीय जगत में भी रत्नों के प्रभावशाली लाभों को मान्यता प्राप्त है. ऐसे में प्रमुख नवरत्नों की यदि बात करें तो हर रत्न की अपनी अलग विशेषता है. नवरत्न जैसे माणिक्य, हीरा, पन्ना , मोती, मूंगा, गोमेद, पुखराज, नीमल, लहसुनिया सभी रत्नों में भिन्न-भिन्न गुण विद्यमान हैं व हर रत्न की अपनी अलग उपयोगिता है . परंतु यदि हम इनमें से माणिक्य की बात करें तो यह एक बेहद खूबसूरत व बहुमूल्य रत्न होने के साथ - साथ अनेकों प्रभावशाली गुणों से भी युक्त है . माणिक्य रत्न जड़ित आभूषण हर उम्र के लोगों के व्यक्तित्व में चार- चाँद तो लगाते ही हैं , साथ ही साथ भीड़ से अलग एक बेहतरीन व राजसी लु…

गहनों का ख्याल , रखें हरदम आप

This appeared in one of the leading hindi magazines ..............

गहनों का ख्याल , रखें हरदम आप 





गहने किसी न किसी रुप में हमारे जीवन से जुड़े रहते हैं. या यूँ कहें कि आपके हर गहने में आपके जीवन के अनमोल  पलों का समावेश होता है. कभी व्यक्ति विशेष के सौंदर्य व व्यक्तित्व को निखारने में इनका बड़ा योगदान होता है तो कभी एक पीढ़ी इन्हें दूसरी पीढ़ी के हाथों में जब सौंपती है तो ये हमारे परिवार की विरासत का रुप ले लेते हैं और पीढ़ी दर पीढ़ी हमारे पूर्वजों की निशानी व परंपराओं क प्रतीक बन कर हमें गौरवान्वित करते हैं. हर खूबसूरत गहने के साथ एक बेहतरीन याद जुड़ी होती है . परंतु यदि इनकी समुचित देखभाल न की जाए तो ये अपनी रंगत खोने लगते हैं . इसलिए इनका सही तरीके से ख्याल रखना बेहद आवश्यक है . उचित देख-रेख द्वारा आपके गहनों की चमक सालों साल बरकरार रह सकती है. अपने गहनों को मेंटेन रखने व इनकी चमक सालों साल बरकरार रखने के उपाए बेहद सुविधाजनक हैं.

गहनों को मेंटेन रखने व इनका सही तरीके से रखाव के लिए गहने पहनने के बाद , हर एक बार ह्ल्के गीले मुलायम कपड़े से पोंछ कर रखा जाए. यह एक रेग्युलर आदत ही आपके ग…

Visual Merchandising : Jewellery Display

Visual Merchandising : Jewellery Display

The question confronting every retailer is what encourages a customer to shop in one store rather than another ?
The answer is : a coordinated effort  that includes marketing, merchandising, store design, and visual merchandising.

Visual merchandising today has become an indispensable and integral component of the fashion business. it is a tool or language that retailers use to communicate with the target customers .

Visual merchandising makes the customers stop, look , even examine the new merchandise available in your store . it is the art of presentation, which puts the merchandise in focus. it educates the customers, create desire and finally augments the selling process.

In jewellery and fashion business, VM plays a very important role. so if you are running a jewellery business, boutique , design house, or a store, it is mandatory for you to learn the basics of VM to enhance the sale of your merchandise.


The basic rules of design

As you know…