Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2012

DIAMONDS ARE FOREVER

D I A M O N D S   A R E    F O R E V E R


 Ranked among nature’s most precious gifts to mankind, Diamonds have remained the most coveted of all jewels, symbolising  power,mystique, & love. There’s no other gemstone that says so many beautiful things about a woman. Nothing that can thrill & delight a woman quite as much.

The word diamond comes from the Greek word ‘adamas’ meaning unconquerable. And when it comes to sheer beauty,a diamond is truly unconquerable.

The Greeks thoughts diamond were the tears of god & likened the fire of a diamond to love’s passion , while the ancient Romans believed that they were splinters from falling stars with which Eros [Greek god of love] tipped his arrows.

Diamonds were first unearthed in India. Through the centuries, the country has borne some of the biggest beauties like the famed ‘Kohinoor’.

Diamond’s structure , brilliance & beauty are unsurpassed. No two diamonds are the same. Each is unique. Every diamond has a birthmark ,sometimes a…

For God's sake ....start using Mirror :

For God's sake ....start using Mirror :




Fashion....we all, especially ladies are fascinate with this term ...& everybody try their level best to follow the latest fashion so as to look good, attractive , charming  & grab  attention of people around them.Though fashion is just a  7 letters word , but its really very difficult to understand it deeply . fashion means being in style that provides comfort..It basically includes  style in clothing, hair, Jewellery &  styling in your lifestyle.

but what to say about those who want to be fashionable, live in style but don't have any attitiude to carry style in their personality & lifestyle.....these kinda fashion illiterate people usually  metamorphised themselves into comical characters & make fun of themselves in public ...... All because of this current ‘fashion mania’ that has gripped our modern society . Every female wants to look ‘hot’ & every male wants to look 'cool'.

I saw many gals in  lace and n…

JEWELLERY COLLECTION : 'PRAKRITI'

JEWELLERY COLLECTION : 'PRAKRITI'


ज्वेलरी कलेक्शनः ' प्रकृ्ति '



प्रकृ्ति [ Nature ] सृ्ष्टि का आधार . सौंदर्य, जीवन,  उल्लास, शांति, खुशहाली, कोमलता, शीतलता की परिचायक ......प्रकृ्ति कहने को मह्ज़ एक शब्द, पर ये एक शब्द् कहीं न कहीं पूरे ब्रह्मांड , पूरी सृ्ष्टि को अपने में समेटे हुए है. या यूँ कहें कि प्रकृ्ति के बिना हम कुछ भी नहीं .प्रकृ्ति जिसने हमें जीवन दिया, अपने आंचल में हम सभी का पालन-पोषण किया. प्रकृ्ति जिसके आवरण में हम सभी जन्में और जिस प्रकृ्ति के आवरण में हम सभी को वापस मिल जाना है, उसी प्रकृ्ति को अपनी प्रेरणास्रोत बना के , मैं स्वप्निल शुक्ल प्रस्तुत कर रही हूँ आप सबके समक्ष अपना ज्वेलरी कलेक्शनः  'प्रकृ्ति' [ PRAKRITI ]














खुशियों की चाभी

खुशियों की चाभी




'जीवन के मीठे रस, जीवन के रंग व खूबसूरत ज़िन्दगी ' क्या सटीक परिभाषा है एक सफल व सुन्दर ज़िन्दगी की जहाँ हमारी दुनिया हमारे सपनों की दुनिया जैसी हो?
आम तौर पर किसी भी व्यक्ति की चाहत नाम, शोहरत व दौलत पाने की होती है जिसके लिये वो हर संभव प्रयास करता है. पर सबको सब कुछ मिल जाये बिना कुछ गंवाये , क्या यह संभव है? निःसंदेह मुश्किल तो है पर असंभव नहीं. पर वो, जिन्होंने सब कुछ खो कर ही कुछ या बहुत कुछ पाया है, वे अपनी कुंठाओं की प्रस्तुति किस प्रकार करते होंगे ? ज़िन्दगी में दौलत से बहुत कुछ खरीदा जा सकता है परंतु खुशियों को नहीं फिर भी लोग ज़िन्दगी की खुशी दौलत में ही तलाशते व दर्शाते हैं. पर आपका अपना अस्तित्व क्या है? दौलत के अलावा , आप क्या हैं? किस मुकाम पर हैं? यदि धनवान हैं तो नाम व पह्चान क्या है ?
कुछ लोगों से मैंने सुना कि मेरे बाप- दादाओं ने इतनी दौलत जोड़ कर रखी है तो मुझे काम करने की क्या जरुरत ? परन्तु व्यक्ति की पहचान तो उनके काम या उनके द्वारा किये गए कामों से ही  होती है. तो क्या ऐसे लोगों को पह्चान की भी जरुरत नहीं?

कुछ युवतिया…

Article on Diamond by Swapnil Shukla

Article on Diamond
This appeared in one of the leading Hindi magazine: