Tuesday, 20 November 2012

Designer Of The Month : Shalini Awasthi .

Designer Of The Month :  Shalini Awasthi .




भारतीय परिवेश में गहनों के प्रति स्त्रियों की चाहत आज से नहीं बल्कि सदियों से चली आ रही है....  गहनों के साथ अधिकतर हमारी कोई न कोई याद जुड़ी होती है. कभी हमारे पूर्वजों की निशानी तो कभी हमारे अपनों का प्यार व आशीर्वाद के रुप में हर गहना , हमारी ज़िंदगी के कुछ अनमोल पलों का साक्षी बन जाता है.... .... गहने हर किसी को अपनी ओर आकर्षित करते हैं....... खूबसूरत आभूषणों द्वारा खुद के व्यक्तित्व को साजाना व संवारना हर स्त्री का शौक होता है .और अपने इसी शौक को अपना प्रोफेशन व अपनी पहचान बना चुकी डिज़ायनर ' श्रीमती शालिनी अवस्थी ', आज तेजी से सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ रही हैं व  जेम्स एवं ज्वेलरी उद्योग में अपनी पहचान बना रही हैं. ..... तो आइये मिलते हैं व जानते हैं  'श्रीमती शालिनी अवस्थी ' व उनके ज्वेलरी पैशन के बारे में .


अंग्रेज़ी साहित्य  में परास्नातक 'शालिनी अवस्थी' ने  इमिटेशन ज्वेलरी में विशेष योग्यता हासिल की है.  शालिनी कहती हैं , "ज्वेलरी बनाना हमेशा से ही मेरा  शौक था  ........ पारिवारिक ज़िम्मेदारियों के कारण अपने शौक को पंख न दे पाने का मलाल हमेशा से ही था परंतु पिछले दो सालों से खुद के लिये समय निकाल कर इमिटेशन ज्वेलरी के जरिये अपने शौक को अपने प्रोफेशन में बदल कर मुझे एक सुखद अनुभूति होती है . और अब तो मेरे बेटे से भी मुझे भावनात्मक सहयोग निरंतर प्राप्त होता रहता है ,जिससे मुझे बेहतर कार्य करने की प्रेरणा मिलती है . खुद के द्वारा डिज़ाइन की गई ज्वेलरी को धारण कर जो खूबसूरत अह्सास होता है , उसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता. आज के समय में सोने - चाँदी के दामों में निरंतर बढ़ोत्तरी के चलते लोगों का रुझान इमिटेशन ज्वेलरी की ओर हुआ है...... जिससे इनकी डिमांड भी दिनों- दिन बढ़ती जा रही है. और जब बात ग्राहकों की संतुष्टि की हो तब आप किसी भी प्रकार का समझौता नहीं कर सकते ..... एक डिज़ायनर के लिहाज से खुद के द्वारा डिज़ाइन की गई ज्वेलरी आपकी आत्म संतुष्टि से अधिक आपके ग्राहकों को संतुष्ट करे तब कहीं जाकर आप खुद को इंड्स्ट्री में स्थापित कर पाते हैं.


ज्वेलरी डिज़ाइन का काम मुख्यत: इनोवेशन पर आधारित है ........ ग्राहकों की डिमांड के अनुसार व ट्रेंड के अनुसार हर पल कुछ नया प्रस्तुत करना अत्यंत चुनौतीपूर्ण कार्य है. और शालिनी , इसमें निपुण हैं. ट्रेंड्स पर कड़ी पकड़ व ग्राहकों की पसंद का बखूबी ख्याल रखते हुए शालिनी के द्वारा डिज़ाइन किया गया हर गहना आपके व्यक्तित्व  में जीवंतता, उल्लास व उमंग भरने की क्षमता रखता है. इनके द्वारा डिज़ाइन किए गए गहनों  में पारंपरिक व आधुनिक डिज़ाइन्स का समावेश देखने को मिलता है व ये गहने उचित मूल्यों पर उपलब्ध हैं ......

शालिनी पिछले लगभग आठ महीनों से मेरी डिज़ाइन टीम का हिस्सा हैं..... इमिटेशन ज्वेलरी से संबंधित  लगभग हर क्लेक्शन में बतौर मेरी असिस्टेंट डिज़ायनर , इनका कार्य अत्यंत प्रशंसनीय  है. और मुझे खुद पर अत्यंत गर्व है कि शालिनी अवस्थी जैसे हुनरमंद लोग मेरी डिज़ायन टीम का हिस्सा है...... बस ईश्वर से यही कामना करती हूँ कि शालिनी अवस्थी अपने उज्जवल भविष्य की ओर सफलतापूर्वक अग्रसर हों और उनकी सफलता का परचम सदैव लहराता रहे.


Take a look at Mrs.Shalini Awasthi’s gorgeous work :





























Presented & Posted By -
               

                  - स्वप्निल शुक्ल


copyright©2012Swapnil Shukla.All rights reserved
No part of this publication may be reproduced , stored in a  retrieval system or transmitted , in any form or by any means, electronic, mechanical, photocopying, recording or otherwise, without the prior permission of the copyright owner. 

Copyright infringement is never intended, if I published some of your work, and you feel I didn't credited properly, or you want me to remove it, please let me know and I'll do it immediately.




Thursday, 1 November 2012

फंकी गहनों के साथ बदलें अपना अंदाज़





फंकी गहनों के साथ बदलें अपना अंदाज़ :

ज के दौर में हर कोई अपने आप को ट्रेंडी लुक में ढ़ालना चाहता है. रोजमर्रा की ज़िंदगी की यदि बात करें तो युवा पीढ़ी अर्थात कॉलेज गोइंग युवतियाँ एवं प्रोफेशनल्स अर्थात कामकाजी महिलायें सोने- चाँदी इत्यादि कीमती धातुओं व रत्नजड़ित गहनों को अपनी दैनिक जीवन शैली में पहनने से परहेज करती है. कारण, कार्य भार व रोज की भागादौड़ी में कीमती गहनों के गुम हो जाने का डर. परंतु नारी और गहनों का रिश्ता सदियों से चला आ रहा है. नारी गहनों के बिना अधूरी सी लगती हैं व उनकी खूबसूरती को और दिलकश बनाने में गहनों की भूमिका को नजरअंदाज़ किसी भी कीमत पर नहीं किया जा सकता है.

इस लिहाज से अपने व्यक्तित्व को आकर्षण लुक देने के लिये ' फंकी ज्वैलरी ' एक बेहतरीन विकल्प है. फंकी गहने आधुनिक समय की मांग व युवा पीढ़ी और प्रोफेशनल्स की जरुरत बन गई है.

फंकी गहनों का सीधा अर्थ है कलात्मकता के आधार पर उपलब्ध संसाधनों जैसे कपड़ा, लेदर, वुडन बीड्स आदि द्वारा बनाई गई वो ज्वेलरी जो आपको ट्रेंडी व स्टाइलिश लुक दे.

तो आइये इस संदर्भ में जानते हैं कि किस प्रकार एक कपड़े को आप अपनी कलात्मकता के द्वारा एक खूबसूरत फंकी व चार्मिंग नेकलेस का रुप देकर खुद को एक मार्डन लुक दे सकते हैं.  कपड़े से बने इस फंकी नेकलेस को 'बॉल नेकलेस' कहा जाता है.  तो आइये जानते हैं बॉल नेकलेस बनाने की संपूर्ण विधि जो कि मेरी ओर से आप सभी पाठकों के लिये एक तोहफा है.

बॉल नेकलेस बनाने की सामग्री :

1- कपड़े की स्ट्रिप ( कपड़े की पट्टी )

2- कैंची

3- कढ़ाई वाला धागा व सुई ( Embroidery Thread & Needle )

4- वाइअर ( तार )



5- चेन ( Chain ) 



6- क्लास्प (Clasp )








1.  सबसे पहले कपड़े की लंबी स्ट्रिप लें.



2.पड़ों को अपने हाथों में लेकर कुछ इस प्रकार फोल्ड व क्रश (Crush ) करें कि वो एक बॉल का प्रारुप ले लें.


3. कपड़े की बॉल की गोलाई को मेंटेन रखने के लिये एक पतला तार ( वाइअर ) लें और बॉल में उसकी शेप को मेंटेन रखते हुए लपेटें.



4.बचे हुए तार के टुकड़े को कैंची से काट दें और उसके सिरे को कपड़े की बॉल के भीतर कर छिपा दें.


5. जितनी आपको नेकलेस की लंबाई रखनी हो उसके आधार पर कपड़े की और अन्य बॉल बनाएं ... उदाहारण 10, 15, 20 इत्यादि.



6. इसके बाद दो- दो बॉल्स लें और कढ़ाई धागा व सुई के द्वारा इन्हें आपस में सिल दें.


7. इसी प्रकार अन्य बॉल्स को भी सिलें.


8. इसके उपरांत दो चेन लीजिये जिनमें क्लास्प ( Clasp )  लगें हो , दोनों चेन को बॉल नेकलेस के दोनों सिरों से जोड़ दें.


तो लीजिये तैयार है आपका खूबसूरत बॉल नेकलेस.  उम्मीद करती हूँ कि पाठक भी इस स्टालिश नेकलेस का लाभ अवश्य उठाएंगे.






                             - स्वप्निल शुक्ल

copyright©2012Swapnil Shukla.All rights reserved
No part of this publication may be reproduced , stored in a  retrieval system or transmitted , in any form or by any means, electronic, mechanical, photocopying, recording or otherwise, without the prior permission of the copyright owner.