Wednesday, 23 May 2012

Ek machhali aur talaab....

\


' एक मछली और तालाब ' :: हममें से बहुत से लोग इस मुहावरे से भली - भाँति परिचित हैं कि एक गंदी मछली पूरे तालाब को गंदा कर देती है. कई लोग अपने जीवन में इस मुहावरे का उपयोग एक सीख के तौर पर करते हैं तो कई लोग दूसरों पर टिप्पणी करने हेतु. पर ये निश्चित कौन करेगा कि जिस तालाब को गंदा करने की वजह गंदी मछली बताई जा रही है , असल में गंदी मछली के कारण गंदा  हुआ है या पूरा तालाब ही गंदगी से भरा है. यदि तालाब में पूर्णतया गंदगी ही व्याप्त है तो मछली क्या करे़...... जीवनयापन करने हेतु उतरना तो उस गंदे तालाब में ही पड़ेगा और लाख पवित्र या साफ - सुथरी होने के बावजूद तालाब की गंदगी की तरह उसे भी गंदे होने की त्रासदी सहनी पड़ेगी.
उपरोक्त विवेचना की प्रेरणा का आधार हमारे आधुनिक समाज अर्थात "मॉडर्न ससाइअटि " का घिनौना व दूषित वातावरण है जिसके चलते इस सटीक मुहावरे की परिभाषा ही बदल गई है.

समाज में फैले दूषित , संकीर्ण व तुच्छ मानसिकता वाले लोग जो यथार्थ से परे अपने जीवन को जीते हैं और हमारे समाज में गंद मचाए पड़े हैं और जब प्रश्न उन पर उठता है व उनके चरित्र पर उठता है तो अपने काले- कारनामों का घड़ा दूसरों के सिर पर फोड़ने की मूर्खता करते हैं . अत: इस मुहावरे का उपयोग भी आज की तारीख़ में आप उन्हीं लोगों के मुख से सुनेंगे जिनकी चुनरी व वस्त्रों में दाग ही नहीं अपितु जो अपने शरीर को ओढ़ने व ढकने हेतु चुनरी व वस्त्र ही नहीं पहनते . वे बेहर्म उन जीवों की श्रेणी में आते हैं जिनके मुँह को गली का हर कुत्ता शौचालय की भाँति प्रयोग करता है और वे इस बात पर हँसते हुए अन्य सफल व्यक्तियों की उन्नति , प्रगति, सुंदरता या उनके द्वारा किए गए सफल सामाजिक बदलावों को देख बस कहते ही रह जाते हैं कि - " एक गंदी मछली पूरे तालाब को गंदा कर देती है. "


copyright©2012Swapnil Shukla.All rights reserved



10 comments:

  1. well said................ a great analysis on reality of life...awesome

    ReplyDelete
  2. it was great to read ths post ...cong8 & thanks for sharing such a wonderful article.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanks mohit ji.....plz keep visiting.

      Delete
  3. love this, and totally agree with the philosophy behind it. I’m glad I found your site, and I’m looking forward to reading more!

    Good stuff

    ReplyDelete
  4. Such a great post. Thank you for sharing .Love reading all your posts

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanks reader......keep visiting
      plz....do mention your name while choosing the profile Anonymous
      thanks :)

      Delete
  5. kudos for such a bold article .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanks sandeep.......plz keep visiting.

      Delete